गुरुवार, 13 अक्तूबर 2016

तुम्हारे जाने की दोपहर में

                                                                        Artist - Myself

तुम्हारे जाने की दोपहर में
हवा से भड भड करती एक खिड़की है ,
एक मरी हुई किताब
जिसकी कभी मैंने सुध नहीं ली.
अधूरी पेंटिंग
हमेशा मुझे डांटती हुई ,
और कमरे के बिलकुल बीचोंबीच
तार पर सूखता अंडरवेयर
और एक कन्डोम का पैकेट
जिसे कई बार गुस्से में फेंक दूँ सोचते हुए
ड्राअर में वापस रख चूका हूँ.

जब तुम आई थी की दोपहर पर भी एक कविता है

आओगी तो सुनाऊंगा.

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें