बुधवार, 11 जनवरी 2012

मै भी प्रेम करना चाहता हूँ

   अपना कुछ पुराना लिखा हुआ पढकर अक्सर ही उस पर शर्म महसूस करता हूँ ,हालाँकि ये भी बहुत पुरानी कविता है २००४ में लिखी हुई पर इससे एक अजीब सा लगाव है शायद इसलिए भी आप लोगों के साथ शेयर कर रहा हूँ.




                                         Artist- Egon Sheily

















मै भी प्रेम करना चाहता हूँ
जैसा सब करते हैं
उसी तरह सचमुच का
की घंटों भटकते रहें सड़कों पर
एक दूसरे की चुप सुनते हुए
सन्नाटे के शोर में
मरते हुए पत्तों की आहटें पकड़ते हुए
गोबर की गंध महसूसते
हवा की नीलाई में साँस लेते हुए
दोपहर का दुःख बटोरते.

मै प्रेम करना चाहता हूँ
की पकड़े जाने की शर्मिंदगी हो
पहचान लिए जाने का सुख हो
और चुपके से
उसका नाम गुनगुना लेने का रोमांच.

मै इस तरह प्रेम करना चाहता हूँ
की महसूस सकूँ
बारिश में भूनते भुट्टे की महक
खेतों में दहकते पलाश के फूल
और पल - पल गिरते पीले पत्ते
पतझड़ी दिनों के.

मै प्रेम करना चाहता हूँ
की ढेर सारी आकांक्षाएं हों
की हिंसा हो
की पीड़ा हो
का शोर हो.
मै भी प्रेम करना चाहता हूँ
जैसा सब करते हैं
उसी तरह सचमुच का.


1 टिप्पणी:

  1. यहां शर्मनाक कुछ नहीं है......स्‍वाभावि‍क व सार्थक रचना....

    उत्तर देंहटाएं